गुरुवार, 4 नवंबर 2010

एक दीप ...

आओ जलाएं 
प्रकाश पर्व पर 
एक दीप....
देश के शहीदों के नाम ,
एक दीप .......
माँ सरस्वती के नाम ,
और एक दीप ......
उन कन्या भ्रूणों के नाम 
जो देख नहीं सकीं कभी
प्रकाश की एक भी किरण /
आओ जलाएं दिए 
और करें यह कामना
कि विद्या धन से 
सदा आलोकित रहें
हम, हमारा  समाज 
और यह देश / 




8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा पोस्ट , दीपवाली की शुभकामनाये
    sparkindians.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. 'असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय, मृत्योर्मा अमृतं गमय ' यानी कि असत्य की ओर नहीं सत्‍य की ओर, अंधकार नहीं प्रकाश की ओर, मृत्यु नहीं अमृतत्व की ओर बढ़ो ।

    दीप-पर्व की आपको ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएं ! आपका - अशोक बजाज रायपुर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया!


    सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल 'समीर'

    उत्तर देंहटाएं
  4. शर्मा जी, बजाज जी, समीर जी !!!
    प्रकाश पर्व पर आप सभी को शुभकामनाएं ......

    उत्तर देंहटाएं
  5. दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
    जीवन में लाए खुशियां अपार।
    लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
    शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

    उत्तर देंहटाएं
  6. संगीता जी !
    हर दिन पावन हो , जीवन में शुचिता हो, प्रकाश से सजा हो, हर्ष से भरा हो........
    ऐसा पूरा वर्ष हो ......
    आपका .....
    और आपके परिवार का /
    स्वीकार करें .........मंगल कामना ....प्रकाश पर्व पर /

    उत्तर देंहटाएं
  7. करे जो हर
    अंधियारा दूर
    अपने अंतर्मन में
    आओ जलाएं
    एक अमर दीप .....

    बहुत सुंदर रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्षितिजा जी !
    ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद /
    कभी समय निकाल कर ''THE ANCIENT SCIENCE OF लाइफ'' भी देखें , कदाचित आपको अच्छा लगे

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ हैं तो विमर्श है ...विमर्श है तो परिमार्जन का मार्ग प्रशस्त है .........परिमार्जन है तो उत्कृष्टता है .....और इसी में तो लेखन की सार्थकता है.