गुरुवार, 18 अगस्त 2011


सावन 

सबहिं कहत सखि सावन आये
पुलकित मन, तन खिल-खिल जाए. 
सुन रे सखी घन भेद करत ये
कभी मन भाये कभी अगन लगाए .

श्याम-श्याम घन तोहे मन भावन 
घन घिर आये सखि मोहे न सावन.
गरजत बरसत घनन छनन घन
तड़पत हूँ ज्यों दामिनि छन-छन.

आज सखी क्यों केश  सँवारे 
आवत क्या घनश्याम तुम्हारे. 
रहस छिपावत मन अकुलावत  
चितचोर बने क्यों नयन तुम्हारे.

6 टिप्‍पणियां:

  1. डॉक्टर साहब

    दो गरमागरम प्रविष्टियों के बाद सावन की झड़ी सुहानी लगी है … :)
    सबहिं कहत सखि सावन आये
    पुलकित मन, तन खिल-खिल जाए

    अति सुंदर ! मनभावन ! बधाई इस रचना के लिए



    हार्दिक मंगलकामनाओं सहित
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  2. कमाल की सांस्कृतिक रचना है डॉक्टर साहब!! एकदम वर्त्तमान से अतीत में ले गए आप!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस कविता से अपनी शुरूआती कविता की कुछ पंक्तियाँ याद आ गई ...

    दूर कहीं पपीहा बोले .....
    कानों में मधुर रस घोले ...

    सावन की आई ठंडी फुहार
    लाई मोरे जियरा में खुमार
    झुनक-झुनक पैजनियाँ बोले
    दूर कहीं पपीहा बोले .....

    और दो गरमागरम प्रविष्टियों के बाद सावन की झड़ी सुहानी लगी
    कमाल की सांस्कृतिक रचना है डॉक्टर साहब......!!

    :))

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ हैं तो विमर्श है ...विमर्श है तो परिमार्जन का मार्ग प्रशस्त है .........परिमार्जन है तो उत्कृष्टता है .....और इसी में तो लेखन की सार्थकता है.