शनिवार, 30 मार्च 2013

चइत महिनवा



 बस में है ना मोरा मनवा, लागल चइत महिनवा।
 चुपके से अइहs, रतिया के अइहs
केहू न जाने सजनवा, लागल चइत महिनवा।।

 

टेसू भइलs मोर देहिंया, जरि-जरि चइत महिनवा।  
जरि-जरि निखरल, देहीं भइलs सोना,
सोना के तsकलन पूरा दुनिया, चइत महिनवा॥

 

 
चढ़ल अटरिया भइल चन्दा के अंजोरिया।
बिखरल केसवा तs छाइलs बदरिया 
कुहकेला मनवा चइत महिनवा॥
 

लाल गुलाबी पीयर हरियर, धीरे से डरिहs सजनवा।  
रंग दे मनवा पिरितिया के रंग
उड़ल मन सुगना चइत महिनवा॥ 
 


  फूलल काजू, पाकल तेन्दू, मsह-मsह मsहकल महुवा
सजनवा हौले-हौले चुनिहs, हौले-हौले चुनिहs रस ले ले चुसिहs
गजब ढइलs महुवा चइत महिनवा॥

 
 
 

 

 

 

4 टिप्‍पणियां:



  1. टपके ला महुवा टप-टप चइत महिनवाँ
    भोरिये मे जिया धक-धक चइत महिनवाँ

    खूल लिखलन चइति डागदर बाबू..चइत महिनवां..

    उत्तर देंहटाएं
  2. महुवा के रस मं डुबो के खूब छक्का मरले हउआ पाण्डे जी ! ए हो देबेन्दर भइया! एगो चइती रउवो सुना दीं। बड़ा मन करता के पाण्डे जी के मुखवा से कुछ सुना जाय।

    उत्तर देंहटाएं
  3. चइत महिनवा में महके महुआ अउर महके ला चारो ओर फूलवा के गंध हो... बदरिया गरजे... अहा! सुन्दर छटा. मन में बाजे लागल चैती गीत हो...
    अप्रतिम...
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. नव संवत्सर पर हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ हैं तो विमर्श है ...विमर्श है तो परिमार्जन का मार्ग प्रशस्त है .........परिमार्जन है तो उत्कृष्टता है .....और इसी में तो लेखन की सार्थकता है.