गुरुवार, 4 फ़रवरी 2016

बस्तर

कुछ पके तेंदू लिये एक मोटियारिन सा ये बस्तर
कुसुम थामे व्यग्र सा कुछ खोजता चेलक ये बस्तर ।
शाल वन के द्वीप में बन्दी बना भोला ये बस्तर
नेहवश जलता रहा काजल बना पागल ये बस्तर ।

चार की नव कोपलों से झाँकता रहता ये बस्तर
बास्ता से बात कर महुवा से मिलता था ये बस्तर ।
खिलखिलाते घोटुलों में गीत गाता था ये बस्तर
लग गयी किसकी नज़र अब जल रहा धू-धू ये बस्तर ।

कट रहे वन झुलसते तन अब हो रहा बंजर ये बस्तर
गीत गाती अब न मैना, सहमा डरा रहता ये बस्तर ।
कौन विकसित हो रहा, बस पूछता रहता ये बस्तर
अब छोड़ दो हमको हमारे हाल पर कहता ये बस्तर ।  

तेंदू = एक फल ; मोटियारिन = युवती ;
कुसुम = एक खट्टा-मीठा फल ; चेलक = युवक
चार = चिरौंजी ; बास्ता = बांस का नवांकुर ;

घोटुल = किशोरशाला  

1 टिप्पणी:

  1. शानदार रचना है सर कृपया मेरे इस ब्लॉग Indihealth पर भी पधारे

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ हैं तो विमर्श है ...विमर्श है तो परिमार्जन का मार्ग प्रशस्त है .........परिमार्जन है तो उत्कृष्टता है .....और इसी में तो लेखन की सार्थकता है.