बुधवार, 18 अगस्त 2010

पार्थेनियम को नष्ट करें , धान को बचाएं .




सबके हे बड़ बैरी, बैरी ये गाजर घास.
अमरीकी गोहूँ साथे, आइसे गाजर घास.
येती-ओती चारो कोती  , ये ही उगे हे आज
केतना प्रजाती खागे, बैरी ये गाजर घास.
राह-बाट, जंगल-झाड़ी, गाँव-गाँव, बाड़ी-बाड़ी.
खेत-खार, आस-पास, उगे हे गाजर घास.
खेती के जो बैरी हावे, करे धान के जो नास.
ओहिच्चे बिदेसी भैया, कहाथे  गाजर घास.
माटी होगे बंजर, उड़ा गे गंध भात के. 
टूरा-टूरी रोथे , उड़ा गे नींद रात के.
करे रोग चमड़ी के, औ उबा सांसी हो.
ये ही के जराबो होरी, आज भैया दीदी हो.
संगी चल साथी चल, केहू के न कर आस.
सब्बो जन जराबो आज, बांची न गाजर घास.

2 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर पोस्ट, छत्तीसगढ मीडिया क्लब में आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Dhanyavaad C.G.M.C.! Main brij-bhaashi hun.Chhattisagadhi me likhne ka pratham baar saahas kiyaa hai. Aapko sundar lagaa, jaankar achhaa lagaa.Pusadkar ji ko namaskar.

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ हैं तो विमर्श है ...विमर्श है तो परिमार्जन का मार्ग प्रशस्त है .........परिमार्जन है तो उत्कृष्टता है .....और इसी में तो लेखन की सार्थकता है.