रविवार, 5 जून 2011

एक और जलियाँ वाला ......क्या यह इतना आवश्यक था ?

    
     देश का धन वर्षों से प्रवासी जीवन जीने को अभिषप्त है.  इधर, विकास के नए-नए आंकड़े सामने आ रहे हैं. मंत्री और सचिव अपनी पीठ थपथपा रहे हैं. और देश का आम आदमी शुद्ध जल की तो छोड़िये मध्य-प्रदेश के बुंदेलखंड में तो अशुद्ध जल की भी एक बूँद के लिए तरस रहा है.......देश के कई प्रान्तों में सबकी भूख मिटाने वाला किसान आत्म ह्त्या कर रहा है. देश का विकास अपने तरीके से चल रहा है और ऐसे में भ्रष्टाचार के विरुद्ध पहले अन्ना हजारे और फिर बाबा रामदेव बड़े सशक्त तरीके से सरकार के विरुद्ध खुल कर खड़े हो गए. किसी अवतार की प्रतीक्षा में युगों से प्रतीक्षारत भारत की जनता ने राहत की सांस ली......अब ज़ल्दी ही कोई चमत्कार होने वाला है. 
      कल ख्रीस्त की इक्कीसवीं शताब्दी के द्वितीय दशक के प्रथम वर्ष की चार जून का दिन भारत के लोकतंत्र का एक और ऐतिहासिक दिन बन गया. दिल्ली के रामलीला मैदान में भ्रष्टाचार के विरोध में और देश का धन वापस देश में लाने को लेकर सत्याग्रह में सम्मिलित होने देश भर से आयी, अर्धरात्रि में निहत्थी सो रही जनता से अचानक दिल्ली की सरकार को क़ानून-व्यवस्था पर खतरा मंडराने का खतरा दृष्टिगत हुआ. सरकारी हुक्म हुआ और रात में लगभग पांच हज़ार पुलिस के ज़वान जिनमें रैपिड एक्शन फ़ोर्स के जवान भी शामल थे सोयी हुयी जनता पर बर्बरता का कहर बरपाने पहुंच गये . स्त्री वेश में छिप कर बाबा को अपने प्राण बचाने पड़े. कई लोग घायल हुए ....जिनमें महिलायें और बच्चे भी थे. इस पूरे प्रकरण में सबसे शर्मनाक कार्य पुलिस का रहा. पुलिस विभाग में नौकरी करने के इच्छुक मेरे बेटे ने (उसने बचपन से यह सपना संजोया हुआ था ) आज इस घटना के बाद ऐलान कर दिया कि अब वह पुलिस विभाग में नौकरी नहीं करेगा.....जिस विभाग के उच्चाधिकारी इतने संवेदनशून्य और विवेकहीन हैं कि वे सही गलत का वैसा निर्णय भी नहीं कर पाते जैसा १८५७ में ब्रिटिश फ़ौज के भारतीय सिपाहियों ने किया था तो ऐसे सरकार परस्त विभाग में जाकर वह देश की जनता के साथ विश्वासघात करने का पाप नहीं करना चाहता. 
      बाबा के आन्दोलन की सफलता-असफलता और उनकी रणनीति पर टिप्पणी करने का समय नहीं है.जीत किसकी हुयी सरकार की या बाबा की ...इस पर भी मैं कुछ नहीं कहूंगा. अभी तो समय है देश के कुछ कर्णधारों की बतकही पर बतकही का. 
       तो पहले कर्णधार हैं दिग्विजय सिंह जी जिन्होंने बाबा को ठग की उपाधि से मंडित किया. उन्होंने बाबा की डाक्टरी विद्या पर भी प्रश्न उठाये. ....योग से कैंसर ठीक करने के दावे का परिहास किया गया (बाबा ने कई बार कहा है कि मैंने ऐसा दावा कभी नहीं किया )
        .......पर एक प्रश्न उठता है कि जब सरकार के एक आला नेता ने बाबा के खिलाफ इतने संगीन आरोप लगाए हैं तो उनके पास इसके प्रमाण भी होंगे. उन्होंने बाबा के योग शिविरों के विरुद्ध अब तक कोई प्रतिबंधात्मक कार्यवाही क्यों नहीं की ? दूसरी बात,  पूरे देश में सड़क किनारे बैठ कर नामर्दगी, लकवा और न जाने कौन-कौन सी बीमारियाँ ठीक करने का दावा करने वाले खानदानी शफाखाने वाले वैद्यों पर सरकार ने अभी तक कोई कार्यवाही क्यों नहीं की ? मजे की बात यह है कि इन शफाखाने वालों से आमआदमी से लेकर बड़े-बड़े अधिकारी और नेता तक नामर्दगी और हाज़मे की दवाइयां ऊंची कीमत पर खरीदते हैं. संयोग देखिये कि नेताओं के खराब हाज़मे और नामर्दगी का सबसे बड़ा प्रमाण कितना सहज सुलभ है !
        अगले कर्णधार हैं कपिल सिब्बल जी ! कल दिल्ली के रामलीला मैदान में जो स्वतन्त्र भारत का प्रथम जलियाँवाला काण्ड हुआ उसके सन्दर्भ में उन्होंने स्पष्ट शब्दों में स्वीकार किया कि हम तो शठे शाठ्यम समाचरेत वाले हैं, शठ के साथ शठ जैसा व्यवहार किया गया है. हमारे क़ानूनदां नेता अफजल गुरु और कसाब के मामले में भी यही नीति अपनाते तो कितना अच्छा होता ? देश और मानवता के इन शत्रुओं पर प्रति दिन व्यय किया जाने वाला खर्च, जो कि इस देश की जनता की गाढ़ी कमाई का एक हिस्सा है, बचता.....और जिसका उपयोग देश के शहीदों की विधवाओं और उनके बच्चों की शिक्षा पर खर्च हो पाता....क्योंकि उनके हिस्से का पैसा तो ये लोग अपने व्यक्तिगत विकास में निर्लज्जता पूर्वक खर्च कर लेते हैं. सिब्बल बोले कि बाबा ने देश और सरकार को धोखा दिया है इसलिए उनके साथ जो हुआ वह उचित है. पर सरकारों में तो न जाने कितने ऐसे लोग हैं जो वर्षों से देश को धोखा देते आ रहे हैं ...उनके खिलाफ भी कुछ होना चाहिए था...पर नहीं हुआ. 
        सुबोध कान्त सहाय ने फरमाया कि बाबा की सारी बातें मान ली गयी थीं पर बाबा ने हठ करके आन्दोलन जारी रखा इसलिए उनके साथ ऐसा (कसाब जैसा नहीं ) बर्ताव करना सरकार की विवशता हो गयी थी. बाबा के मन में क्या है वह बाबा जानें ...पर सरकार के मन में क्या है वह तो सारा देश जान चुका है. लोकपाल बिल के  प्रकरण में पूरे देश ने सरकार की नियत को देख लिया है. पिछले दो वर्षों से बाबा काले धन की बात कर रहे हैं. उनके सत्याग्रह की प्रतीक्षा क्यों की गयी ? इस प्रश्न का उत्तर सरकार का कोई भी आदमी नहीं दे सकेगा. उन्होंने बाबा का काले धन वाला एजेंडा बड़ी चतुराई से चुराने (उचित शब्द है 'छिनाने' ) का असफल प्रयास भी किया - यह कहकर कि "यह तो सरकार का और सोनिया जी का एजेंडा है, बाबा करें या न करें सोनिया ज़रूर करेंगी". भाई वाह ! क्या बात है सोनिया जी और सरकार जी ! पर अभी तक यह एजेंडा कहाँ था ? इतने वर्षों में अभी तक इस अत्यंत ज्वलनशील राष्ट्रीय महत्त्व के विषय पर मौन क्यों छाया रहा ?  
   हम न तो बाबा जी है और न नेता .....एक आम आदमी हैं. हम राजनीति की कुटिल चालों को नहीं जानते ( और न जानना चाहते हैं ),.....मंत्रियों के मिथ्या आश्वासनों के कटु सत्य को जानते हैं ...और यह भी जानते हैं कि सरकार निर्वस्त्र खड़ी है....क्योंकि उसकी व्यवस्था पूरी तरह सड़ी-गली है.