शनिवार, 8 सितंबर 2018

मंथन


कौन करे
किसका अभिनंदन
कुल गर्दभ के करते मंथन ।
बस ! यही तेरा एक इष्ट !
शेष
केवल अनिष्ट, केवल अनिष्ट !

चिंतनशून्य हुए जब-जब तुम
तर्कशून्य हुए तब-तब तुम   
रीति उपेक्षित
सागर मंथन की  
नहीं वासुकी नहीं मंदराचल
चहुँ ओर व्याप्त तुमुल कोलाहल
हो रहा क्रंदन ही क्रंदन ।
हैं सूने सारे देवालय  
प्रज्वलित नहीं कहीं कोई दीप
तिमिर गहन में
पथ विहीन तू
चला जा रहा किधर बता तो !   

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

टिप्पणियाँ हैं तो विमर्श है ...विमर्श है तो परिमार्जन का मार्ग प्रशस्त है .........परिमार्जन है तो उत्कृष्टता है .....और इसी में तो लेखन की सार्थकता है.