शनिवार, 5 फ़रवरी 2011

यह तय हुआ.

ज़ख्म अंधेरों ने दिए थे ख़ूब 
छिप गया था चाँद  
उगते प्रेम का,
हो गया था बादलों की ओट....... 
पर घड़ी भर बाद ही 
वह आ गया हंसता हुआ,
उम्मीदें बच गईं फिर ख़ाक होने से .
क्या ख़ूब है गर्मी तुम्हारे इश्क की 
पिघलते द्वंद्व के हिमनद
बहे हैं इन दिनों .
सैलाब कब ठहरे हुए  
देखे किसी ने आज तक !
आओ कश्ती खोल दें हम प्यार की
गा उठा है गीत कोलंबस कोई
ढूंढ लेंगे रास्ता हम भी नया.
दोस्ती कितनी पुरानी
प्रेम से है 
दर्द की.
रोक कर इनको करें क्या 
चलो ......इनको छोड़ दें रिसता हुआ
बस, प्रेम को सिज़दा करें
सिज़दा करें ...... यह तय हुआ.  





10 टिप्‍पणियां:

  1. रोक कर इनको करें क्या
    चलो ......इनको छोड़ दें रिसता हुआ
    hmmmmmmm.....baba...marmsprshi...rchna...
    pr ptaa nhi kyun..mere liye aapki ..rchna..in 2 lines me hi simat gyi.......jaan ekyaa baat he in 2 lines me...............bahut praabhshaali he.....bdhaayi...mujhe..kyunki mere baba ne likhi he.....:).....:)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत मर्मसपर्शी रचना धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  3. आओ कश्ती खोल दें हम प्यार की
    गा उठा है गीत कोलंबस कोई
    ढूंढ लेंगे रास्ता हम भी नया.


    बड़ी प्यारी नज़्म है .....
    प्रेम रस में भीगी सी .....

    उत्तर देंहटाएं
  4. पी.टी.वी. एवं हीर जी ! शुक्रिया !!
    हाँ जोया ! बधायी तुम्हें ...क्योंकि तुम्हारे बाबा ने लिखी है. शैतान ! !

    उत्तर देंहटाएं
  5. कौशलेंद्र जी... बेहद रूमानी अंदाज़!! बस सिर्फ भीगने का जी चाहता है इस बारिश में!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. गा उठा है गीत कोलंबस कोई
    ढूंढ लेंगे रास्ता हम भी नया.
    दोस्ती कितनी पुरानी
    प्रेम से है
    दर्द की.

    अतिसुन्दर ,क्या खूब लिखा आपने !
    प्रेम का मनभावन सन्देश !

    उत्तर देंहटाएं
  7. कौशलेन्द्र जी बस्तर के उन घने जंगलों से इतनी सुंदर अभिव्यक्ति...उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. bahut achchi kavita samvedansil. upar wali kavita v achchi ha.

    उत्तर देंहटाएं
  9. मन में गहरे बसे
    कुछ अलसाए-से भाव
    मानो
    कुछ "अपने-से" शब्द हो कर
    अंगड़ाईयाँ लेने लगे हों ....

    अनुपम काव्य !

    उत्तर देंहटाएं
  10. सलिल भाई, मिसिर जी, राजरिशी जी, मुसाफिर जी, एवं दानिश जी! हमारी गली में आप आये ......हम धन्य हुए . सुखानुभूति हुयी ......आते रहें और इस यात्रा के साक्षी बनते रहें ......

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणियाँ हैं तो विमर्श है ...विमर्श है तो परिमार्जन का मार्ग प्रशस्त है .........परिमार्जन है तो उत्कृष्टता है .....और इसी में तो लेखन की सार्थकता है.