गुरुवार, 23 सितंबर 2010

कश्मीर

कश्मीर के भाइओ और बहनों ! पिछले कुछ महीनों से घाटी में जो कुछ हो रहा है वह पीड़ादायक है , संकट की इस घड़ी में हम पूरी तरह आपके साथ हैं. आप न  कभी अकेले थे. न अभी हैं और न  कभी अकेले रहेंगे .आपके दुःख में हम पूरी तरह सहभागी हैं.