शुक्रवार, 3 दिसंबर 2010

कोई क्या जाने ....

ये उदासी ......
ये  बेरुखी ........
ये तनहाई  ..........
ये खामोशी ............
और 
वो सब .......
ज़ो सवाल बन गए हैं,
पैदाइश हैं उन समझौतों की 
ज़ो मेरे घावों नें 
समय- समय पर किये हैं .

कोई क्या जाने ! 
कितनी  बेदर्दी से दफ़न होती रही है 
हर समझौते के साथ 
मेरी सरलता ...... मेरी सहजता ......
और ....
जिनकी कब्रों पर उग आये हैं 
न जाने कितने मुखौटे
जिनके बोझ से तड़पती है 
मेरी संवेदना..... मेरी आत्मा.....

कोई क्या जाने !
बे-अदबी का मुखौटा पहनते वक़्त 
मेरा रोम-रोम 
अदब और दर्द से सराबोर हो 
माँग रहा होता है ........माफियाँ .

कोई क्या जाने !
मेरी बेरुखी और लापरवाही के भीतर 
कितनी छिपी   है 
तड़प  और फिकर  
और मेरे गुस्से  के भीतर 
कितनी तेज़  बह  रही है 
अक्षय प्रेम  की सरिता.

कोई क्या जाने !
कब्र  का पत्थर  हटा  कर  
नेक झांको तो सही 
वहां 
वह सब कुछ है 
जिसकी 
तुम्हें मुद्ददत  से तलाश है . 
नेक झांको तो सही.........